देरी से मिली नवरात्र पर्व मनाने की अनुमति Pal Pal India News

#Madhya Pradesh# Devas#

शक्ति आराधना के पर्व नवरात्र की शुरुआत 17 अक्टूबर से होने वाली है. माता की प्रतिमाओं को अंतिम रुप देने का काम कलाकारों द्वारा किया जा रहा है. मूर्ति बनाने वाले कलाकार लाखन सिंह ठाकुर का कहना है कि वे पिछले कई वर्षों से माता की मूर्तियों का निर्माण कर रहे हैं. इस वर्ष कोरोना के कारण मूर्तिकारों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है. वहीं प्रतिमाएं भी पिछले वर्षों की तुलना में कम निर्मित की गई है. बताया गया है कि माता की प्रतिमा निर्माण के लिए मिट्टी कोलकाता से मंगवाई जाती है जिसके बाद मूर्ति को आकार दिया जाता है. महामारी के कारण इस वर्ष 2 से 6 फीट की प्रतिमाओं का निर्माण किया गया है. माता की प्रतिमा खरीदने के लिए उज्जैन, इंदौर और मक्सी के लोग शहर आते हैं. मूर्ति कारों ने बताया कि पिछले वर्ष की तुलना में प्रतिमाओं में लगने वाली सामग्री के दाम दुगने हो गए हैं जिसके कारण माता प्रतिमाओं की कीमतों में भी वृद्धि हुई है. कोरोना काल के कारण मूर्ति बनाने वाले कलाकारों में भी कमी आई है. मक्सी से मूर्ति लेने आए हंसराज जैन ने बताया कि वे विगत 13 सालों से यहां मूर्ति लेने आ रहे हैं. हर बार विशेष मूर्ति का निर्माण करवाया जाता है. महामारी के चलते लोगों में असमंजस किया था कि माता की प्रतिमा मिलेगी या नहीं लेकिन प्रशासन द्वारा पहले छोटी मूर्तियों की अनुमति दी गई और उसके बाद में बड़ी मूर्ति बनाने की अनुमति भी दे दी गई. लेकिन अब स्थिति ऐसी हो गई है कि मूर्तियां ही नहीं मिल रही है जिसके कारण मूर्तियों के दाम दुगने कर दिए गए हैं.

मूर्ति का व्यापार करने वाले व्यापारी ने बताया कि 12 वर्षों से मूर्तियों का निर्माण कर रहे हैं. इस बार मूर्तियों में चामुंडा माता की मूर्ति आकर्षण का केंद्र है. जिला प्रशासन ने त्योहार को लेकर देरी से निर्णय लिया है जिसके कारण प्रतिमाओं का निर्माण समय पर नहीं हो पाया.

Keyword most popular